टीचर्स डे 2021 – क्या आपको पता है, क्यों डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है?

EDUCATION NATIONAL Uncategorized

भारत के प्रथम उप राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के शिक्षा के क्षेत्र में दिए गए योगदान को याद रखने के लिए हर साल 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है| हर किसी के जीवन में शिक्षक की भूमिका बेहद महत्वपूर्ण होती है| शिक्षक, शिक्षा की अलख जगाकर व्यक्ति, समाज और राष्ट्र निर्माण में विशेष भूमिका निभाता है| माता-पिता बच्चे को जन्म भले ही देते हैं, लेकिन एक शिक्षक अपनी मेहनत और लगन के साथ उसे बेहतर इंसान बनाता है| हमें सफलता का रास्ता दिखाने वाले सभी शिक्षकों के सम्मान में 5 सितम्बर के दिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है| इस दिन स्कूल और कॉलेजों में विद्यार्थी अपने शिक्षकों का सम्मान करते हैं| शिक्षक दिवस के अवसर छात्रों और पूर्व छात्रों के द्वारा सम्मान समारोह का आयोजन भी किया जाता है|

प्रथम भारत के उप राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिवस

भारत की संस्कृति में गुरु-शिष्य की परंपरा का स्थान बेहद महत्वपूर्ण है| भारत के प्रथम उपराष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म 5 सितंबर, 1888 को हुआ था. वे एक विद्वान शिक्षक थे| उन्होंने अपने जीवन के चालीस वर्ष एक शिक्षक के रूप में भारत के भविष्य को बेहतर बनाने में लगाए. उनके शिक्षक के रूप में दिए गए योगदान को हमेशा याद रखने के लिए हर साल उनके जन्मदिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है|

जब डॉ राधाकृष्णन ने कहा था- मेरा जन्मदिन मनाने के बजाय शिक्षकों का सम्मान हो

डॉक्टर राधाकृष्णन जब भारत के राष्ट्रपति बने तो कुछ दोस्त और पूर्व छात्र उनसे मिलने पहुंचे| यहां उन्होंने सर्वपल्ली जी से उनका जन्मदिन भव्य तरीके से मनाने की अनुमति मांगी तो, डॉक्टर राधाकृष्णन ने कहा कि मेरे जन्मदिन को अलग तरीके से मनाने के बदले अगर 5 सितंबर के दिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाए तो उन्हें बहुत खुशी और गौरव होगा| उसके बाद से ही 5 सितंबर के दिन को भारत में शिक्षक दिवस के रूप में मनाने का प्रचलन शुरू हुआ, जो आज तक चला आ रहा है|

Leave a Reply