महाराष्ट्र के पालघर मछुआरे की चमकी किस्मत, जाल में फंसी 57 ‘सी गोल्ड’ मछलियां, 1 करोड़ 33 लाख में बिकी

STATE

मुंबई| महाराष्ट्र के पालघर में मछुआरे की चमकी किस्मत, कुछ ही देर में वह करोड़पति बन गया| पालघर के चंद्रकांत तरे अपने 7 साथियों के साथ समुद्र में मछली पकड़ने गए थे। जब इन लोगों ने समुद्र में जाल डाला, तो ‘सी गोल्ड’ कही जाने वाली दुर्लभ घोल मछलियां इसमें फंस गईं। चंद्रकांत के जाल में एक-दो नहीं पूरी 157 घोल मछलियां एक साथ फंस गईं। यह मछलियां 1.33 करोड़ रुपए में बिकीं। मछलियों का ऑक्शन पालघर के मुर्बे में हुआ। चंद्रकांत के बेटे सोमनाथ ने बताया कि उन्होंने हर मछली को करीब 85 हजार रुपये में बेचा। सोमनाथ ने बताया कि वे 7 लोगों के साथ हारबा देवी नाम की नाव से समुद्र में 20 से 25 नॉटिकल माइल अंदर वाधवान की तरफ गए थे। इसी दौरान उनके पिता के समुद्र में फैलाए जाल में 157 घोल मछलियां फंस गई। इसके साथ ही नाव पर सवार लोगों में खुशी की लहर दौड़ गई, क्योंकि यह उनकी जिंदगी की सबसे बड़ी कमाई वाली ट्रिप बन गई थी। घोल मछली का वैज्ञानिक नाम ‘Protonibea Diacanthus’ है। इसे ‘सी गोल्ड’ भी कहा जाता है। इसका इस्तेमाल दवाइयां और कॉस्मेटिक्स बनाने में होता है। थाईलैंड, इंडोनेशिया, जापान, सिंगापुर जैसे देशों में इसकी बहुत मांग है। सर्जरी के दौरान इस्तेमाल होने वाले धागे, जो अपने आप गल जाते हैं, वे भी इसी मछली से बनाए जाते हैं।

यूपी और बिहार में खरीदीं गई मछलियां

समुद्र में प्रदूषण की मात्रा बढ़ जाने की वजह से अब ये मछलियां किनारे पर नहीं मिलती हैं। इन मछलियों की तलाश में मछुआरों को समुद्र के बहुत अंदर तक जाना होता है। सोमनाथ के मुताबिक, इन मछलियों को यूपी और बिहार से आए व्यापारियों ने खरीदा है।

Leave a Reply