“वर्ल्ड फोटोग्राफी डे”- 2021

INTERNATIONAL

न्यूज़ डेस्क। एक तस्वीर हज़ार शब्दों के बराबर होती है, 1913 में नॉर्वे के लेखक हेनरिक इब्सेन में यह कहा था। हर साल विश्वभर में 19 अगस्त को वर्ल्ड फोटोग्राफी डे के रूप में मनाया जाता हैं। क्या आपको पता है कि भारत की सबसे पहली महिला फोटोजनर्लिस्ट “होमी व्यारावाला” हुई, जो इन्हे 2011 में भारत सरकार द्वारा पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया। एक तस्वीर का आधुनिक मानव जीवन में जगह आज इसीलिए भी है कि क्यूंकि तस्वीर उन यादों कों समेट कर रख लेती है जिसका दोहराना मुकिन नहीं। आज जिसके जेब में स्मार्ट फ़ोन है यानी उसके पास एक कैमरा है लेकिन एक वक़्त था जब सिर्फ तस्वीर कैद करने के लिए केवल कैमरा का ही इस्तमाल होता था और हर घर में तस्वीरों को रखने के लिए एल्बम भी रखी जाती थी। आधुनिक युग में सिर्फ शादी के फोटो एल्बम के अलावा आम लोगो के घर में अब फोटो एल्बम लुप्त है। अब फ़ोन की गैलरी ही फोटो एल्बम के सामन हो चुकी है ।क्यों मनाया जाता है “वर्ल्ड फोटोग्राफी डे”?

विश्व फोटोग्राफी दिवस का महत्व जागरूकता पैदा करना, विचारों को साझा करना और फोटोग्राफी के क्षेत्र में लोगों को आने के लिए प्रोत्साहित करना है। यह दिन न केवल उस व्यक्ति को याद करता है जिसने इस क्षेत्र में योगदान दिया है बल्कि यह भविष्य की पीढ़ी को भी अपना कौशल दिखाने के लिए प्रेरित करता है। विश्व फोटोग्राफी दिवस के इतिहास का पता 1830 के दशक के अंत में लगाया जा सकता है जब लुई डागुएरे ने ‘डग्युएरियोटाइप’ का आविष्कार करके पहली बार फोटोग्राफिक प्रक्रिया विकसित की थी। 9 जनवरी, 1839 को फ्रेंच एकेडमी ऑफ साइंसेज ने इस प्रक्रिया की घोषणा की। इसके बाद फ्रांसीसी सरकार ने 19 अगस्त, 1839 को आविष्कार को दुनिया के लिए एक उपहार के रूप में मुफ्त में घोषित किया। इसलिए 19 अगस्त को हर साल विश्व फोटोग्राफी दिवस के रूप में मनाया जाता है। अमेरिका के फोटो प्रेमी रॉबर्ट कॉर्नेलियस ने दुनिया की पहली सेल्फी क्लिक की थी। उन्होंने साल 1839 में ये किया था। हालांकि उस समय उन्हें ये नहीं पता था कि ऐसा फोटा क्लिक भविष्य में सेल्फी के रूप में जाना जाएगा। यह तस्वीर आज भी यूनाइटेड स्टेट लाइब्रेरी ऑफ कांग्रेस प्रिंट में उपलब्ध है। 

दुनिया के सर्वश्रेष्ठ फोटोग्राफर

1) स्टीव मैकरी

अमेरिका के फोटोग्राफर स्टीव मैकरी बहुत ही प्रसिद्द फोटोग्राफर हैं, इनकी अफ़ग़ान गर्ल की तस्वीर जो नेशनल जियोग्राफिक के कवर पर कई दफा दिखाई दी। स्टीव,1986 से मैग्नम फोटोज के सदस्य है।

2) जोएल सेंटोस

पुर्तगाल के जोएल सेंटोस एक ट्रेवल फोटोग्राफर, डॉक्यूमेंट्री फिल्म निर्माता, अध्यक्ष और लेखक हैं। इन्हे 2016 में ट्रेवल फोटोग्राफर ऑफ़ दा ईयर से सम्मानित किया गया, आर्ट एंड टूर – इंटरनेशनल टूरिज्म फिल्म फेस्टिवल (2019) में पहला (“ड्रीम प्लेस”) और दूसरा (नेचर एंड वाइल्डलाइफ) प्लेस अवार्ड जीता।

3) रघु राय

भारत के मशहूर फोटोग्राफर रघु राय ने अपनी फोटोग्राफी के माध्यम से कई सामाजिक और राजनीतिक कारणों पर काम किया। उन्होंने 1984 में भोपाल गैस रिसाव के दौरान हरित शांति के साथ काम किया और पीड़ितों के जीवन को अपनी फोटोग्राफी के माध्यम से चित्रित किया। 1972 में, उन्हें उनके फोटोग्राफी कार्य का सम्मान करने के लिए भारत सरकार द्वारा पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। वह वर्तमान में दिल्ली में रहता है और मैग्नम तस्वीरों के लिए एक संवाददाता के रूप में काम करता है।

ऐसे और कई बड़े नाम शामिल हैं जिन्होंने फोटोग्राफी के क्षेत्र में अपना नाम बनाया है जैसे – रोबर्ट कापा, एडवर्ड वेस्टन, अनसेल ऐडम्स, डब्बु रत्नानी, अतुल कस्बेकर।

इस जगह दे सकते हैं अपनी फोटो, जिनकी मिलेगी कीमत

1) एडोब फोटोज ( adobe photos)

2) शटरस्टॉक (Shutterstock)

3) अलामी (Alamy)

4) फोटोमोटो (Fotomoto)

5) क्रेस्टॉक (Crestock)

भारत के कई ऐसे फोटोजर्नालिस्ट भी हुए जिन्होंने देश के भीतर और बाहर की तस्वीरों को जनता के सामने पहुंचाया और सच का दृश्य दिखया है, ऐसे ही एक फोटोजर्नलिस्ट हुए दानिश सिद्दीकी जिन्हे उनके कार्य के लिए पुलित्ज़र अवार्ड्स से भी सम्मानित किया गया था , उनकी
तालिबानियों द्वारा हत्या कर दी गयी। देश को फोटो जर्नलिस्ट और ऐसे तमाम फोटोग्राफर ने एक अलग मुकाम पे ला खड़ा किया है जिससे आज हर देश वासियों के सामने देश की तस्वीर हैं, जिसे वह जानता और सुनता है।

Leave a Reply