विश्व साक्षरता दिवस 2021, भारत और छत्तीसगढ़ की साक्षरता दर

EDUCATION INTERNATIONAL NATIONAL

विश्व साक्षरता दिवस 2021 आज, 8 सितंबर को मनाया जा रहा है| यह दिन साक्षरता के महत्व को चिह्नित करने और यह याद दिलाने के लिए मनाया जाता है कि साक्षरता एक अधिकार है| यूनाइटेड नेशन्स एजुकेशनल, साइंटिफिक एंड क्लचरल ऑर्गेनाइजेशन ने 1966 में 8 सितंबर को अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस के रूप में घोषित किया था|

क्या है विश्व साक्षरता दिवस 2021 की थीम

विश्व साक्षरता दिवस के लिए इस वर्ष की थीम “ह्यूमन सेंटर्ड रिकवरी के लिए साक्षरता: डिजिटल डिवाइड को कम करना” है| ILD 2021 की थीम डिजिटल साक्षरता के बारे में लोगों में अधिक जागरूकता पैदा करने के लिए निर्धारित है| गौरतलब है कि कोरोना महामारी ने बच्चों, युवाओं और वयस्कों की शिक्षा में काफी प्रभावित किया है और कई मुश्किलें खड़ी की है, इसने नागरिकों के बीच ज्ञान के विभाजन को बढ़ा दिया है|

क्या है साक्षरता दिवस का इतिहास

यूनेस्को ने पहली बार 7 नवम्बर 1965 को अंतरराष्ट्रीय साक्षरता दिवस मनाने का फैसला लिया था| जिसके बाद इसके लिए एक दिन निर्धारित किया गया और तभी से हर साल 8 सितम्बर को विश्व साक्षरता दिवस मनाया जाता है| यूनेस्को के इस फैसले के अगले साल से ही यानी 1966 से पहली बार साक्षरता दिवस मनाने की शुरुआत की गई थी|

क्यों मनाया जाता है विश्व साक्षरता दिवस

लोगों को साक्षर होने और सामाजिक और मानव विकास के अपने अधिकारों को जानने की आवश्यकता के बारे में जागरूक करने के लिए यह दिन मनाया जाता है| साक्षरता न केवल लोगों को बेहतर जीवन जीने में मदद करती है बल्कि गरीबी उन्मूलन, जनसंख्या को नियंत्रित करने, बाल मृत्यु दर को कम करने आदि में भी मदद करती है| यह दिन लोगों को बेहतर शिक्षा के लिए प्रोत्साहित करने के लिए मनाया जाता है| यूनेस्को इस दिन लोगों को जागरूक करने के लिए स्कूलों, कॉलेजों और गांवों में कई कार्यक्रम आयोजित करता है|

भारत में साक्षरता दर
भारत में 2011 में पिछली जनगणना के अनुसार कुल 74.04 प्रतिशत साक्षर हैं, जिलमें पिछले दशक (2001-11) से 9.2 प्रतिशत की वृद्धि है. यूनेस्को के अनुसार देश को सार्वभौमिक साक्षरता प्राप्त करने में और 50 वर्ष लगेंगे जो कि 2060 है|

छत्तीसगढ़ में साक्षरता दर

2011 की जनगणना के विवरण के अनुसार, छत्तीसगढ़ की जनसंख्या 2.56 करोड़ है, जो 2001 की जनगणना में 2.08 करोड़ के आंकड़े से अधिक है। 2001 की जनगणना के अनुसार छत्तीसगढ़ की कुल जनसंख्या 25,545,198 है जिसमें पुरुष और महिला क्रमश:12,832,895 और 12,712,303 हैं। 2001 में, कुल जनसंख्या 20,833,803 थी जिसमें पुरुष 10,474,218 थे जबकि महिलाएं 10,359,585 थीं। इस दशक में कुल जनसंख्या वृद्धि 22.61 प्रतिशत थी जबकि पिछले दशक में यह 18.06 प्रतिशत थी। 2011 में छत्तीसगढ़ की जनसंख्या भारत का 2.11 प्रतिशत है। 2001 में यह आंकड़ा 2.03 प्रतिशत था। हाल ही में छत्तीसगढ़ की जनगणना के आंकड़ों के अनुसार, 90.21 फीसदी मकानों के मालिक हैं जबकि 6.52 फीसदी किराए पर थे। छत्तीसगढ़ में कुल मिलाकर 72.21% जोड़े एकल परिवार में रहते थे। राज्य में कुल साक्षरता दर 70.28%, 2011 के आंकड़े के हिसाब से है|

Leave a Reply