चंडीगढ़| देश में लगातार पाकिस्तानी आतंकियों के ग्रुप का खुलासा हो रहा है| पंजाब पुलिस ने राज्य में एक और आतंकी मॉड्यूल का खुलासा किया है। पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई इसका संचालन कर रही थी। राज्य में 40 दिनों के भीतर यह चौथा टेरर मॉड्यूल है जो सामने आया है। साथ ही ऑयल टैंकर ब्लास्ट में शामिल 4 आतंकवादियों को भी पकड़ा गया है। ब्लास्ट अमृतसर में बीते 8 अगस्त को टिफिन बम के जरिए किया गया था। इसे देखते हुए मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने पुलिस को हाई अलर्ट पर रहने के निर्देश दिए हैं।

इस मामले को लेकर डीजीपी दिनकर गुप्ता ने 15 सितंबर को चंडीगढ़ में प्रेस कॉन्फ्रेंस भी की। मामले में पाकिस्तानी सिख आतंकी समेत पाकिस्तानी के इंटेलीजेंस ऑफिसर के खिलाफ अजलाना पुलिस स्टेशन में नामजद एफआईआर दर्ज की गई है। रिपोर्ट के मुताबिक, चारों आतंकियों की गिरफ्तारी के बाद पता चला है कि ऑयल टैंकर को टिफिन आईईडी से उड़ाने की साजिश थी।

डीजीपी गुप्ता ने कहा, “तेल टैंकर में हुए ब्लास्ट के पीछे पाकिस्तान स्थित इंटरनेशनल सिख यूथ फेडरेशन के प्रमुख लखबीर सिंह रोड़े और पाकिस्तान के ही रहने वाले कासिम का हाथ था। लखबीर सिंह रोड़े उर्फ ​​बाबा मोगा जिले के रोडे गाँव का है। आतंकी मॉड्यूल के पीछे उसी का हाथ था।”

जिन आतंकियों को गिरफ्तार किया गया है उनमें रूबल सिंह, विक्की भुट्टी, मलकीत सिंह और गुरप्रीत सिंह उर्फ ​​गोपी हैं। हत्या के मामले में वांटेड रूबल सिंह को हरियाणा के अंबाला से गिरफ्तार किया गया, जबकि अन्य को अमृतसर के अजनाला गाँव से पुलिस ने गिरफ्तार किया। इनके एक साथी को पुलिस 20 अगस्त को ही गिरफ्तार कर चुकी है।

डीजीपी ने कहा, “पाकिस्तानी इंटेलीजेंस ऑफिसर कासिम और इंटरनेशनल सिख यूथ फेडरेशन (आईएसवाईएफ) के प्रमुख रोडे ने धमाके करने के लिए आतंकवादी मॉड्यूल को 2 लाख रुपए देने का वादा किया था। लेन-देन का पता लगाया जा रहा है। रुबल और विक्की भुट्टी कासिम के संपर्क में थे जो रोडे के साथ मिलकर काम कर रहा था। रोडे और कासिम ने ही अधिकतम नुकसान पहुँचाने के लिए तेल टैंकर में विस्फोट करने को कहा था।” गिरफ्तार किए गए आतंकियों के खिलाफ 11 अगस्त को आईपीसी की धारा यू/एस 436, 427, 13, 16, 18, 18 बी, UAPA एक्ट 1967 के 20 और विस्फोटक पदार्थ (संशोधन) अधिनियम 2001 की धारा 3, 4, 5 के तहत केस दर्ज किया गया था।

गौरतलब है कि एनआईए ने 20 अगस्त 2021 को खालिस्तानी आतंकवादी जरनैल सिंह भिंडरावाले के भतीजे जसबीर सिंह रोड़े के बेटे को गिरफ्तार किया था। रिपोर्ट्स के मुताबिक जसबीर का बेटा गुरमुख सिंह इंटरनेशनल सिख यूथ फेडरेशन के प्रमुख लखबीर सिंह रोड़े का भतीजा है। रोड़े ने ही उसे विस्फोटकों से भरे टिफिन बॉक्स दिए थे, जिन्हें वह भारत में बाँट रहा था।

By Desk

Leave a Reply Cancel reply