महंत नरेंद्र गिरि के बाद अब आयोध्या में साधू मणिराम दास की संदिग्ध मौत, मंदिर के तीसरी मंजिल से गिरे निचे

NATIONAL RELIGIOUS

अयोध्या| अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध मौत के अब अयोध्या में एक साधु की संदिग्ध परिस्थितियों में छत से नीचे गिरने के कारण मौत हो गई है। मृतक साधु की पहचान मणिराम दास के रूप में की गई है। वह श्री राम मंत्रार्थ मंडपम मंदिर की तीसरी मंजिल से नीचे गिर गए थे। पुलिस उनकी मौत के कारणों की जाँच कर रही है। रिपोर्ट के मुताबिक, तीसरी मंजिल से नीचे गिरने के कारण उनकी मौत हुई है। पुलिस ने उनके शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। उन्होंने आत्महत्या की है या उनकी हत्या हुई है पुलिस दोनों पहलू से मामले की जाँच कर रही है। बताया जा रहा है कि मरने से पहले बीते कुछ दिन से मणिराम ने लोगों से बातचीत कम कर दी थी। वह अकेले रहा करते थे और बहुत ही कम बाहर निकला करते थे। उन्हें किसी बात की परेशानी थी या नहीं उन्होंने किसी से भी इसका जिक्र तक नहीं किया था।

बीते कुछ समय से थे परेशान

शुरुआती जाँच में सामने आया है कि मृतक साधु मणिराम बीते कुछ समय से तनाव में जी रहे थे। हालाँकि, ऐसा किन कारणों से था यह स्पष्ट नहीं हो सका है। पुलिस प्रशासन मृतक साधु के फोन नंबरों की डिटेल्स को खंगालने में जुट गया है। इसके साथ ही मंदिर प्रशासन समेत दूसरे साधुओं से पूछताछ की जा रही है। गौरतलब है कि इससे पहले उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी। महंत का शव बाघमबरी मठ में 20 सितंबर को फाँसी के फंदे से लटकता मिला। इसके बाद उनके शिष्य आनंद गिरि ने उनकी हत्या का भी दावा किया।

Leave a Reply