महासमुंद| छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले के कलेक्ट्रेट परिसर मंगलवार को तब अखाड़ा बन गया जब कलेक्ट्रेट परिसर के आबकारी विभाग के कार्यालय में दो पक्षों के बीच जमकर मारपीट होने लगी. कार्यालय में जिस समय मारपीट हो रही थी, उस समय कलेक्टर डोमन सिंह जिले के सभी जिला अधिकारियों की समय सीमा की बैठक ले रहे थे. मारपीट की खबर लगते ही आबकारी विभाग के सहायक आयुक्त विजय सेन शर्मा और रविकांत जायसवाल सहायक आबकारी अधिकारी कार्यालय पहुंचे और झगड़े को शांत कराया. मारपीट में पीड़ित के सिर में चोट आई है. घटना के बाद आबकारी विभाग के प्लेसमेंट कर्मचारी पीड़ित लीलाराम साहू ने कोतवाली थाने में मारपीट की लिखित शिकायत की है.

इसमें लीलाराम ने महासमुंद के कांग्रेस विधायक विनोद चंद्राकार, कांग्रेस पार्षद बबलू हरपाल, दीपक ठाकुर एवं अन्य पर मारपीट का आरोप लगाया है और एफआईआर दर्ज करने शिकायत कोतवाली थाने में की. मामले में कोतवाली पुलिस ने बबलू हरपाल एवं दीपक ठाकुर के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध कर लिया है. मामला दर्ज करते हुए दोनों आरोपी को कोतवाली पुलिस ने तत्काल गिरफ्तार कर लिया.

विधायक विनोद चंद्राकर पर लगे आरोप को पुलिस ने गलत बताया है. एएसपी मेघा टेम्भूरकर साहू ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि, प्रथम दृष्टिया जांच में विधायक के खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं पाया गया है. कोतवाली पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है.

महासमुंद में बड़ी कार्रवाई

इधर, महासमुंद में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के आदेश का असर दिखा है. महासमुंद में पुलिस ने अवैध रूप से संचालित हुक्का बार और उसके नशीली सामान बेचने वाले दुकान पर छापामार कार्रवाई की है. कोतवाली पुलिस और साइबर सेल की संयुक्त टीम ने शहर के Tha King’s Cafe एवं हुक्का व उसके नशीले पदार्थ की बिक्री करने वाले साहू पान पैलेश पर छापामार कार्रवाई की है. दोनों जगहों से भारी मात्रा में हुक्का पाॅट, मसाले और तम्बाकू युक्त पदार्थ जब्त किया गया है. शहर की बीटीआई रोड स्थित साहू पान पैलेस के संचालक रितेश साहू और पुराना मछली मार्केट में अवैध रूप से चल रहे द किग्स कैफे के संचालक नियाज अशरफी को पुलिस ने गिरफ्तार किया.

Leave a Reply