नई दिल्ली| भारत न्यूजीलैंड के बीच टी20 वर्ल्ड कप का बेहद अहम मुकाबला आज शाम खेला जाएगा। एक तरह से देखा जाए तो दोनों ही टीमों के लिए ये मैच क्वार्टर फाइनल की तरह होने वाला है। दोनों ही टीमों में जो भी आज का मैच जीतेगा उसका सेमीफाइनल का सपना बरकरार रहेगा। हम आपको पूरा समीकरण समझाते हैं कि यहां पर अगर टीम इंडिया जीत दर्ज करती है तो क्या होगा और अगर आज के मुकाबले में हार मिलती है तो फिर क्या होगा।

दोनों ही टीमें हार चुकी हैं अपना पहला मैच


भारत और न्यूजीलैंड दोनों को अपने पहले मुकाबले में पाकिस्तान के हाथों शिकस्त झेलनी पड़ी थी और अब इस मुकाबले में शिकस्त झेलने वाली टीम के लिए सेमीफाइनल के दरवाजे लगभग बंद हो जाएंगे। लेकिन क्रिकेट में संभावनाएं आखिरी वक्त तक कायम रहती हैं। अगर कोई चमत्कार ही हो जाए तो नहीं कहा जा सकता मगर आज का मैच इन और आउट वाला मुकाबला है।

पाकिस्तान की जगह पक्की


ग्रुप से पाकिस्तान तीनों कठिन मैच खेलकर तीनों में जीत दर्ज करके सेमीफाइनल में जगह लगभग पक्की कर चुका है। उसे अब नामीबिया और स्कॉटलैंड से खेलना है। ऐसे में दूसरे स्थान के लिए मुकाबला भारत और न्यूजीलैंड में है और जो जीतेगा, वह दूसरे स्थान पर रहेगा। यदि टीम इंडिया यहां हार जाती है तो फिर वह दुआ करेगी कि न्यूजीलैंड आगे किसी एक मुकाबले में उलटफेर का शिकार हो जाए। वहीं टीम इंडिया कमजोर टीमों पर बड़े अंतर के साथ जीत हासिल करे। ऐसी स्थिति में भारत और न्यूजीलैंड के बराबर अंक हो जाएंगे और बेहतर नेट रनरेट वाली टीम अंतिम चार में जगह बना लेगी।

पॉइंट टेबल पर डालिए एक नजर


पॉइंट टेबल पर नजर डालें तो सुपर 12 के मुकाबले खेले जा रहे हैं। पहले ग्रुप में इंग्लैंड टॉप पर है। इंग्लैंड ने अपने तीनों ही मुकाबले जीत लिए हैं और इसके 6 पॉइंट है। इंग्लैंड का नेट रन रेट लगभग चार का है। दूसरे ग्रुप की बात करें तो पाकिस्तान यहां पर टॉप पर है। पाक ने भी अपने तीनों बड़े मुकाबले जीत लिए हैं। भारत ने अभी तक एक ही मुकाबला खेला है और वो पाकिस्तान से खेला है। भारत अपने ग्रुप में पांचवे स्थान पर है। अगर भारत आज जीतता है तो भारत तीसरे पायदान पर आ जाएगा। उसके बाद भारत का मुकाबला अफगानिस्तान, नामीबिया और स्कॉटलैंड से होगा। उम्मीद यही है कि भारत इन टीमों से आसानी से मैच जीत लेगा। इसलिए आज का मुकाबला बेहद अहम है।

करियर ही है दांव पर


पूरी तरह से फिट नहीं होने के बावजूद खेल रहे हार्दिक पंड्या और खराब फॉर्म से जूझ रहे भुवनेश्वर कुमार भारतीय टीम की कमजोर कड़ियां साबित हुए हैं। कमर की चोट से उबरने के बाद से हार्दिक चिर परिचित फॉर्म में नहीं हैं और उनका करियर अब दांव पर लगा है। नेट पर उनका गेंदबाजी अभ्यास करना ही बता रहा है कि वह किस कदर दबाव में हैं। उनकी टीम मुंबई इंडियंस भी उन्हें आईपीएल नीलामी पूल में डालने जा रही है लिहाजा उनके पास अधिक समय नहीं बचा है। भुवनेश्वर का संभवत: यह आखिरी अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट है। पिछले दो सत्र में उनकी रफ्तार काफी गिरी है और दीपक चाहर जैसे युवा गेंदबाजों से प्रतिस्पर्धा अब उनके लिए कठिन हो गई है|

Leave a Reply