रायपुर| भगवान राम की ननिहाल चंदखुरी में दीपावली की तैयारी जोरों पर है। गुरुवार शाम माता कौशल्या मंदिर परिसर को 3600 दीयों की रोशनी से सजाया जाएगा। गुरुवार सुबह मुख्यमंत्री भूपेश बघेल दीपदान करेंगे।

हमर राम सांस्कृतिक समिति के संयोजक आरपी सिंह ने बताया, चौदह वर्षों के वनवास के बाद भगवान राम के अयोध्या लौटने की खुशी में दिवाली मनाई जाती है। इस पावन अवसर पर चंदखुरी स्थित माता कौशल्या मंदिर प्रांगण में 3600 दीए जलाने की तैयारी है। इनमें छत्तीसगढ़ के 36 गढ़ों के प्रतीक स्वरूप 100-100 दीए जलाए जाएंगे। वहां बिजली की रोशनी और आतिशबाजी भी होगी।

गुरुवार सुबह मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 36 दीपक हमर राम सांस्कृतिक समिति के प्रतिनिधियों को सौंपेंगे। शाम 6 बजे वहां विधिवत पूजा-पाठ के बाद दीपोत्सव शुरू होगा। हमर राम सांस्कृतिक समिति पिछले वर्ष से चंदखुरी में दीपोत्सव का आयोजन कर रही है। पिछले साल भी कौशल्या माता मंदिर परिसर में 3600 दीए जलाए गए थे।

माता कौशल्या का एकमात्र मंदिर

रायपुर से करीब 20 किमी दूर स्थित चंदखुरी को प्राचीन कौशल की राजधानी माना जाता है। यहां भगवान राम की माता कौशल्या का एक प्राचीन मंदिर है। इसमें भगवान राम माता कौशल्या की गोद में बैठे दिखाए गए हैं। यह पूरी दुनिया में भगवान राम की माता को समर्पित एकमात्र मंदिर माना जाता है।

पिछले महीने ही मंदिर का जीर्णोद्धार पूरा हुआ

राज्य सरकार ने राम वनगमन पथ पर्यटन सर्किट के तहत माता कौशल्या मंदिर का जीर्णोद्धार पूरा किया है। इसपर 15 करोड़ रुपए की लागत आई है। 8 अक्टूबर को इसका लोकार्पण हुआ। इस दौरान तीन दिनों का भव्य उत्सव हुआ था।

Leave a Reply