दिल्ली के विज्ञान भवन में 25 अक्टूबर को आयोजित 67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार समारोह में छत्तीसगढ़ के फिल्मकार मनोज वर्मा द्वारा बनाई गई फिल्म ‘भूलन, द मेज’ को राष्ट्रीय पुरस्कार दिया गया।

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के हाथों फिल्म के निर्माता मनोज वर्मा ने पुरस्कार हासिल किया। गौरतलब है कि इसी साल 22 मार्च 2021 को तत्कालीन सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने पुरस्कारों की घोषणा की थी। इसमें ‘भूलन द मेज’ को शामिल किया था।

अपनी इस कृति से छत्तीसगढ़ का नाम राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्थापित करने वाले फिल्मकार मनोज वर्मा राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त करने के लिए 23 अक्टूबर को ही दिल्ली रवाना हो गए थे। उन्होंने बताया कि यह फिल्म लेखक संजीव बख्शी के उपन्यास ‘भूलन कांदा’ पर आधारित है।

फिल्म के माध्यम से संदेश दिया गया है कि देश की न्याय प्रणाली सशक्त है और लोगों को अदालत पर भरोसा है, लेकिन न्याय व्यवस्था में शामिल जिम्मेदारों को जागने की जरूरत है।

आपको बता दें कि यह फिल्म इससे पहले कोलकाता, दिल्ली, ओरछा, आजमगढ़, रायपुर, रायगढ़, एवं अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल इटली एवं कैलिफोर्निया भी पुरस्कार हासिल कर चुकी है।

‘भूलन द मेज’ के नाम अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार स्तर पर पुरस्कार जीतने वाली छत्तीसगढ़ की पहली फिल्म का ऐतिहासिक रिकॉर्ड दर्ज हो गया है। हाल ही में अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार की श्रेणी में छत्तीसगढ़ सरकार ने एक करोड़ रुपए की अनुदान राशि देने की घोषणा की है।

Leave a Reply