राज्योत्सव के दिन सोमवार को निगम का प्रशासनिक अमला जागा और राज्य निर्माण और आजादी के लिए लड़ने वाले महामुपुरुषों की प्रतिमाओं की साफ-सफाई करवायी। एक ही दिन में सभी चौक-चौराहों पर लगी प्रतिमाओं की सफाई सुबह-सुबह संभव नहीं था। कहीं सुबह हुई तो कहीं-कहीं दोपहर बाद तक सफाई होती रही। प्रतिमाओं की धुलाई के साथ कपड़े से साफ किया गया। जानकारों और संस्कृति से जुड़े हुए लोगों का कहना है कि एक दिन पहले ही प्रतिमाओं की साफ-सफाई कर सुबह से फूल-मालाएं पहनाकर सम्मान किया जाना चाहिए।

पंद्रह अगस्त या 26 जनवरी पर एक दिन पहले ही तैयारियां कर ली जाती है। राज्योत्सव के एक दिन पहले ऐसा नहीं किया गया। सोमवार को सुबह निगम व स्वास्थ्य विभाग की टीमों ने टाउन हाल परिसर व रायपुर कलेक्टोरेट परिसर स्थित राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की मूर्तियों की सफाई की। जीईरोड में जिलाधीश कार्यालय के सामने स्थित भारत रत्न संविधान निर्माता डा. भीमराव अम्बेडकर की प्रतिमा को साफ किया गया। छत्तीसगढ़ बुनकर सोसायटी कार्यालय के समीप स्थित ठाकुर प्यारेलाल सिंह और स्वतंत्रता संग्राम सेनानी व साहित्यकार हरि सिंह ठाकुर की प्रतिमाओं की सफाई की गई। सुंदर नगर में स्वतंत्रता संग्राम सेनानी पं. सुंदरलाल शर्मा, कटोरातालाब मेन रोड में स्थित संत कंवरराम की प्रतिमा की सफाई की गई।

व तेलीबांधा पुलिस थाना के सामने पं. दीनदयाल उपाध्याय की प्रतिमा सहित शहर में अन्य स्थानों पर स्थित सभी महापुरुषों की प्रतिमाओं का अभियान चलाकर विशेष सफाई करवाई गई।

Leave a Reply