गुजरात के सीएम विजय रुपाणी ने दिया स्तीफा, पिछले ही महीने किए थे 5 साल पूरे

POLITICAL STATE

गांधीनगर| गुजरात के सीएम विजय रूपाणी ने मुख़्यमंत्री पद से स्तीफा दे दिया है| विजय रूपाणी ने गुजरात के राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंपा है| बता दें कि 2022 में गुजरात में विधानसभा चुनाव हैं| इससे पहले ही विजय रूपाणी ने इस्तीफा देकर खलबली मचा दी है| विजय रूपाणी ने इस्तीफ़ा क्यों दिया है| अभी इसका पता नहीं चल पाया है| इस्तीफे के बाद विजय रूपाणी ने बयान भी दिया है| मिली जानकारी में मीडिया से बात करते हुए विजय रूपाणी ने कहा कि मैं बीजेपी के प्रति आभार व्यक्त करता हूँ| बीजेपी ने मेरे जैसे कार्यकर्ता को सीएम जैसे पद की बड़ी जिम्मेदारी दी थी| पीएम मोदी ने मेरा मार्गदर्शन किया और गुजरात उनके ही मार्गदर्शन में आगे बढ़ा है| उन्होंने राज्यपाल से मिलकर अपना इस्तीफा सौंप दिया है| विजय रुपाणी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पीएम मोदी और पार्टी का आभार व्यक्त किया| इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अब वह संगठन के लिए काम करेंगे| अब अगले सीएम पर सबकी निगाहें टिकी हुई हैं| हालांकि नितिन पटेल सीएम की रेस में आगे चल रहे हैं| जब आनंदीबेन पटेल ने सीएम के पद से इस्तीफा दिया था, उस समय भी नितिन पटेल मुख्यमंत्री की रेस में सबसे आगे थे|

5 साल बाद विजय रुपाणी ने सीएम पद छोड़ा

जब से विजय रुपाणी ने सीएम पद संभाला था तब से ये अटकलें लगाई जा रही थीं कि बीजेपी राज्य में नेतृत्व परिवर्तन कर सकती है| पिछले महीने ही सीएम रुपाणी ने सीएम के तौर पर 5 साल पूरे किए थे| अब उन्होंने पद से इस्तीफा दे दिया है| सीएम पद से इस्तीफा देने के बाद विजय रुपाणी ने कहा कि अब उन्हें जो भी जिम्मेदारी मिलेगी वह उसको पूरा करेंगे| उन्होंने कहा कि सीएम रहते हुए उन्हें गुजरात की जनता का भरपूर समर्थन मिला| गुजरात के विकास में योगदान करने का भी उन्हें मौका मिला| उन्होंने कहा कि गुजरात विकास के पथ पर लगातार आगे बढ़ रहा है|

‘नाकामियों को छिपाने के लिए छोड़ा पद’- हार्दिक पटेल

विजय रुपाणी के सीएम पद छोड़ने पर कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल ने तंज कसा है| हार्दिक ने कहा है कि अपनी नाकामियों को छिपाने के लिए बीजेपी ने रुपाणी से पद से इस्तीफा दिलाया है| उन्होंने कहा कि बीजेपी के पास आज गुजरात में ऐसा कोई भी चेहरा नहीं है जो लोगों की सेवा कर सके| हार्दिक ने कहा कि जनता की नाराजगी की वजह से विजय रुपाणी को इस्तीफा देने पर मजबूर होना पड़ा है|

Leave a Reply