केरल में लगातार जारी भारी बारिश की वजह से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। अब तक कम से कम 18 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं दर्जनों लोग लापता बताए जा रहे हैं।

दक्षिण और मध्य केरल में बाढ़ और भूस्खलन की घटनाओं की वजह से हालात बिगड़ने के बाद भारतीय नौसेना ने मोर्चा संभाला है। मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने आपातकालीन बैठक के बाद मीडिया को यह जानकारी दी है।

सीएम विजयन ने कहा, ”हमने आर्मी, नेवी, एयरफोर्स से मदद माँगी है। प्रभावित जिलों में रिलीफ कैंप लगा दिए गए हैं। बारिश के कारण सबसे अधिक कोट्टायम, इडुक्की, पठानमथिट्टा जिले प्रभावित हुए हैं। इन जगहों पर कई गाँव और कस्बे बाकी जगहों से कट से गए हैं।”

आगे कहा, “24 घंटे का अलर्ट देखा जाना चाहिए और जलस्रोतों के करीब रहने वाले सभी लोगों को बहुत सतर्क रहना होगा और किसी को भी पानी में नहीं जाना चाहिए। पहाड़ी क्षेत्रों या अन्य स्थानों पर यात्रा करने से बचें, जहाँ बारिश हो रही है और भूस्खलन की संभावना है।”

रिपोर्ट्स के मुताबिक, इडुक्की जिले के थोडुपुझा के पास पानी का बहाव तेज होने के कारण वहाँ एक कार बह गई। कुछ घंटों बाद स्थानीय लोगों ने कार से दो लोगों का शव बरामद किया।

बारिश के मद्देनजर अधिकारियों ने 6 जिलों में रेड अलर्ट जारी किया है, जबकि अन्य 6 जिले ऑरेंज अलर्ट पर हैं और दो जिले येलो अलर्ट पर हैं। बताया जा रहा है कि राज्य के सभी 14 जिलों में भारी बारिश हो रही है। केरल राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने कोट्‌टायम के कुट्टिकल में फँसे परिवारों को एयरलिफ्ट करने के लिए नौसेना से सहायता माँगी थी।

बता दें कि केरल में बारिश से सबसे ज्यादा नुकसान कोट्टायम, पठानमथिट्टा और इडुक्की जिलों में हुआ है। इडुक्की में पीरुमेदु में 270 मिमी की रिकॉर्ड बारिश हुई।

Leave a Reply