छत्तीसगढ़ में स्कूल शिक्षक नहीं पढ़ा पा रहे बच्चों को जनवरी की सही स्पेलिंग, शिक्षा मंत्री बोले- स्कूल बंद हुए तो बच्चों के साथ शिक्षकों को भी लग चुका है जंग, डीईओ ने शिक्षक को सस्पेंड किया

CHHATTISGARH EDUCATION

बलरामपुर| छत्तीसगढ़ के बलरामपुर जिले के ग्राम भैरोपुर के शिक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़ा करने वाली घटना सामने आयी है| दरअसल स्कूल में पढ़ाने वाले शिक्षक विद्यार्थियों को अंग्रेजी में जनवरी, फरवरी च मदर,फादर की सही स्पेलिंग नहीं पढ़ा पा रहे हैं। इसका एक वीडियो भी सोशल मीडिया में वायरल हुआ| जिसके बाद जिला शिक्षा अधिकारी ने शिक्षक को सस्पेंड किया है, लेकिन बलरामपुर जिले में ऐसे और भी कई शिक्षक हैं, जो इंग्लिश और हिंदी तक सही ढंग से पढ़ाना नहीं जानत।

शिक्षा की ऐसे हालातों में ज्यादातर शिक्षक छात्रों को पढ़ने के लिए कुंजी व गाइड का भी सहारा ले रहे। जानकारी अनुसार, मामले पर जब प्रदेश शिक्षा मंत्री से बात की गई तो उन्होंने कहा कि कोरोना काल में स्कूल बंद रहे, इससे बच्चों के साथ कुछ शिक्षकों में जंग लग गया है। शासकीय प्राथमिक शाला बचवारी पारा में शाला शिक्षक दयानंद सारथी के क्लास में छात्रों को इंग्लिश पढ़ाते हुए का एक वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें उनके द्वारा इंग्लिश में स्पेलिंग गलत पढ़ाया जा रहा है। इस पर शिक्षा मंत्री का कहना है कि कोरोना काल में स्कूल बंद थे तो बच्चों के साथ शिक्षकों में भी जंग लग गया है।

शिक्षक प्रमोशन पाने के लिए ओपन एग्जाम से पास होते हैं

कई स्कूलों में ऐसे शिक्षक हैं जिन्होंने 10वीं 12वीं की परीक्षाओं में नकल कर अच्छे अंक पाए और उन्हें नौकरी मिल गई। वहीं सुनने में ऐसे कई मामले सामने आते हैं कि प्रमोशन व नौकरी के लिए अच्छा अंक पाने राज्य सरकार के ओपन परीक्षा देते हैं। यहां नकल खुलेआम होने की बात सामने आ चुकी हैं। इन परीक्षाओं में प्राप्त अंकों के आधार पर नौकरी पाने वाले छात्रों को सही तरीके से नहीं पढ़ा पाते। इतना ही नहीं ऐसे कई काॅलेज हैं, जो बीएड व डीएड तक की डिग्री बिना क्लास जाए मोटी रकम लेकर अच्छे अंको से पास कर दे रहे हैं। इसके आधार पर भर्ती हुए शिक्षक सही तरीके से नहीं पढ़ा पाते हैं, और खामियाजा छात्रों को भुगतना पड़ रहा है।

12वीं पास हैं लेकिन अंग्रेजी भाषा का ज्ञान नहीं है

ब्लाॅक शिक्षा अधिकारी जेबी तिवारी ने बताया कि सहायक शिक्षक दयानंद सारथी की योग्यता हायर सेकेण्डरी है। वहीं सस्पेंड किए गए आर्डर में लिखा है कि आपकी लेखन शैली व अध्यापन से स्पष्ट है कि उन्हें अंग्रेजी भाषा का जरा भी ज्ञान नहीं है।

Leave a Reply