रायपुर| छत्तीसगढ़ के राजिम विधानसभा के ग्राम पंचायत कोपरा में 12 अक्टूबर को करीब 200 कांग्रेसियों द्वारा स्तीफा सौंपा था| वजह थी कोपरा की सरपंच डॉ. डॉली साहू पर पंचायत के कार्यों में मनमानी और लाखों रुपए गबन के आरोप जांच में प्रमाणित हो जाने के बाद भी विधायक शुक्ल के चलते सरपंच के विरुद्ध किसी प्रकार की कार्यवाही नहीं करने की|

मामले को एक हफ्ते बीत चुके हैं और ग्राम पंचायत पर ताला लटका हुआ है| जिससे लोगों अपने पंचायत से संबंधी काम के लिए उसके खुलने का इंतज़ार कर रहे हैं| MIRRORBUZZ से सीधी बातचीत में उप-सरपंच राजेश यादव ने बताया कि विधायक जी मंत्री कि बात हुई है कार्यकर्ताओं से जल्द कार्यवाई करे जाने का आश्वासन दिया गया है| अगर दोषी है तो उसपर कार्यवाई करेंगे|

श्यामाचरण शुक्ल के पुत्र और राजिम विधायक अमितेश शुक्ल कि MIRRORBUZZ से बातचित में बताया

विधायक अमितेश शुक्ल ने कहा, ” राजेश यादव से बात नही हुई हैं जिला अध्यक्ष से बात हुई है, उन्हें जिम्मेदारी सौंपी दी है, जो भी सही है उसके साथ सही हो, किसी का पक्षपात नहीं| ना 1 रुपए खाता है अमितेश शुक्ल ना 1 रुपए लेता है, भाव सिंह को जिम्मेदारी दी है, सब अच्छे से होने की आशा है”

कब तक सुलझेगा मामला

आगे कहा ” भाव सिंह बता रहे हैं कि जल्द ही सुलझेगा मामला, कुछ गलत फेहमी में भाजपा वालों ने बदमाशी कि थी, उनको भड़काया गया था”,” में जैसे बोल दूंगा ससपेंड नहीं करना है, और होना होता तो मैं बीच में बीच में पड़ा ही नहीं, जो कार्यवाई चल रही है जो होना है वह हो रहा है

गरियाबंद जिले के राजिम विधानसभा के कोपरा गांव के 200 से ज्यादा कांग्रेसियों ने मंगलवार रात फिंगेश्वर ब्लॉक अध्यक्ष रुपेश साहू को अपना सामूहिक इस्तीफा सौंप दिया। इस्तीफा देने वालों में जिला कांग्रेस के 4 महामंत्री और ब्लॉक कांग्रेस के 2 महामंत्री सहित एक दर्जन विभिन्न पदाधिकारी भी शामिल हैं। इस्तीफा देने वाले कांग्रेसी, राजिम विधायक अमितेश शुक्ल की कार्यशैली से नाराज हैं।

कोपरा की सरपंच डॉ. डॉली साहू पर कार्रवाई की मांग को लेकर 26 सितम्बर को कोपरा ग्रामवासियों ने राजिम-गरियाबंद मार्ग पर स्थित नेशनल हाईवे 130सी पर 4 घंटे तक चक्काजाम भी किया था|

Leave a Reply