नई दिल्ली| अब क्रिकेट में भी अपने मुल्क की गिरती साख के लिए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान भारत के मत्थे ही दोष मढ़ रहे हैं। इमरान खान ने कहा है कि भारत विश्व क्रिकेट को नियंत्रित करता है। उन्होंने कहा कि क्रिकेट मे अब पैसा सबसे ज्यादा ताकतवर हो गया है और अधिकतर देशों के बोर्ड इसी आधार पर फैसले लेते हैं। इंग्लैंड और न्यूजीलैंड द्वारा ने हाल ही में सुरक्षा कारणों से अपना पाकिस्तान दौरा रद्द कर दिया था।

उन्होंने कहा, “इंग्लैंड ने खुद को नीचा दिखाया है। अभी भी इंग्लैंड में इस तरह की सोच हावी है कि वो पाकिस्तान जैसे देशों के साथ खेल कर बड़ा एहसान करते हैं। इसका एक बड़ा कारण है जो स्पष्ट है – पैसा। क्रिकेट बोर्डों और खिलाड़ियों के लिए अब पैसा भारत में ही है। मूल बात ये है कि भारत अब विश्व क्रिकेट को नियंत्रित करता है। जो भारत कहता है, वही होता है। विश्व क्रिकेट पर उसका नियंत्रण है।”

साथ ही इमरान खान ने ये भी कहा कि इंग्लैंड और न्यूजीलैंड ने पाकिस्तान के साथ जो भी किया, उनकी हिम्मत नहीं है कि वो भारत के साथ ऐसा करें। इमरान खान ने ‘मिडिल ईस्ट आई’ को दिए गए इंटरव्यू में ये बातें कही। उन्होंने कहा कि BCCI (भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड) आर्थिक रूप से इतना मजबूत है कि विश्व क्रिकेट में उसका ही रुतबा और दबदबा है। इमरान ने कहा कि उन्हों इंग्लैंड से बेहतर व्यवहार की उम्मीद की थी।

पाकिस्तान के पीएम ने कहा, “किसी भारतीय ने सिंगापुर से फेक न्यूज फैला दी थी और इसे ही सच समझ कर इन टीमों ने पाकिस्तानी का दौरा रद्द कर दिया। इंग्लैंड और न्यूजीलैंड को समझना चाहिए कि अगर ऐसा ही व्यवहार किसी दूसरी टीम ने उनके साथ किया होता तो उनकी क्या हालत होती।” पूर्व पाकिस्तानी स्पिनर सईद अजमल ने भी कहा कि BCCI के पास बेशुमार दौलत है, इसीलिए रवि आश्विन, जसप्रीत बुमराह और हरभजन सिंह के बॉलिंग एक्शन पर कार्रवाई नहीं हुई।

बता दें कि पाकिस्तान क्रिकेट के लिए बीते कुछ दिन अच्छे नहीं बीते हैं। पहले न्यूजीलैंड और फिर इंग्लैंड ने यहाँ का दौरा करने से इनकार कर दिया। दरअसल पिछले दिनों पाकिस्तान के सूचना मंत्री ने इस बात का दावा किया था कि न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम को भारत की तरफ से धमकी भरा मेल आया था। फवाद चौधरी ने कहा था कि यह जो मेल है वो भारत की तरफ से जेनरेट किया गया था जिसकी वीपीएन लोकेशन सिंगापुर बता रहा है।

By Desk

Leave a Reply

Your email address will not be published.