नई दिल्ली| छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि राज्य में सरकारी विद्यालयों का संचालन अंतरराष्ट्रीय मानकों (international standard education) के अनुसार किया जाएगा ताकि विद्यार्थियों को स्वामी आत्मानंद सरकारी अंग्रेजी माध्यम विद्यालयों (एसएजीईएस) की तर्ज पर शिक्षा प्रदान की जा सके. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार तीन साल से अधिक उम्र के बच्चों के लिए ‘बालवाड़ी’ भी खोलेगी.

मुख्यमंत्री ने ‘छत्तीसगढ़ विद्यालय शिक्षा दृष्टि दस्तावेज 2030’ के तहत देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की जयंती के अवसर पर आयोजित दो दिवसीय ‘जवाहरलाल नेहरू राष्ट्रीय शिक्षा समागम’ के उद्घाटन समारोह में ये घोषणाएं कीं. बघेल ने कहा, ‘‘ स्वामी आत्मानंद सरकारी अंग्रेजी माध्यम विद्यालयों की तर्ज पर राज्य में अंतरराष्ट्रीय मानक के अनुसार सरकारी विद्यालयों का संचालन किया जाएगा ताकि बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा मुहैया कराई जा सके. अंतरराष्ट्रीय स्तर के विद्यालय होने चाहिए ताकि राज्य के विद्यार्थी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी चमक बिखेर सकें और राज्य को गौरवान्वित कर सकें.’’

बता दें कि छत्तीसगढ़ की भूपेश सरकार ने पिछले साल 2020 नवंबर में एसएजीईएस योजना की शुरुआत की थी, जिसके तहत हिंदी माध्यम के विद्यालयों को अंग्रेजी माध्यम के आधुनिक विद्यालयों में बदलने की योजना शुरू की गई थी. राज्य में इस तरह के 171 विद्यालयों का संचालन किया जा रहा है.

By Desk

Leave a Reply Cancel reply