पाकिस्तान की अदालत ने मस्जिद को अपवित्रता करने के लिए हुई गाने की शूटिंग मामलें में एक्ट्रेस सबा कमर और बिलाल सईद के तय किये आरोप

ENTERTAINMENT INTERNATIONAL RELIGIOUS

नई दिल्ली| बॉलीवुड फिल्म “हिंदी मीडियम” की पाकिस्तानी एक्ट्रेस सबा कमर और गायक बिलाल सईद के खिलाफ अदालत ने आरोप तय कर दिए हैं| पूरा मामला साल 2020 में मस्जिद में डांस और संगीत का आयोजन करने को लेकर हैं| इसी केस में अब अदालत ने 6 अक्टूबर को आरोप तय कर दिए हैं|

एक्ट्रेस सबा कमर और पाकिस्तानी गायक बिलाल सईद के खिलाफ लाहौर के पुराने शहर में मौजूद मस्जिद वजीर खान को नापाक करने का दोषी मानते हुए केस दर्ज किया था। इन दोनों पर मस्जिद के अंदर नाचने का आरोप लगा था जिस पर पाकिस्तान के तमाम मज़हबी समूहों ने न सिर्फ कड़ी प्रतिक्रिया दी थी बल्कि दोनों आरोपितों के खिलाफ कड़े एक्शन की माँग की थी।

मिली जानकारी मुताबिक, आरोप तय करने वाली अदालत के न्यायिक मजिस्ट्रेट जावेरिया भट्टी हैं। अदालत में नियमित रूप से न पेश होने के चलते कुछ समय पूर्व ही सबा क़मर के विरुद्ध अरेस्ट वारंट जारी किया गया था। आरोप तय होने के दौरान दोनों कलाकार अदालत में मौजूद थे जिनके विरुद्ध अभियोजन पक्ष को आगामी 14 अक्टूबर को गवाह पेश करने का आदेश मिला है। अपने पुराने बयान पर कायम सबा कमर ने एक बार फिर कहा कि ”मस्जिद में कोई डांस या संगीत नहीं हुआ और इस मामले में मुझे झूठा फँसाया गया है।’

अगस्त 2020 के इस विवादित प्रकरण में पंजाब प्रांत के मज़हबी मामलों के मंत्री सईद हसन शाह ने बताया था कि मस्जिद में वीडियो बनाने की अनुमति देने वाले निदेशक और सहायक निदेशक को सस्पेंड कर दिया गया था। वीडियो वायरल होने के बाद लाहौर स्तर पर उग्र प्रदर्शन भी हुए थे और अदाकारा सबा कमर को लगातार जान से मार देने की धमकियाँ भी मिलती रहीं।

इसी प्रकरण पर हंगामा करते कट्टरपंथियों को जवाब देते हुए पाकिस्तानी यूट्यूबर और मानवाधिकार कार्यकर्ता आरिफ आजाकिया ने लिखा था, “सबा क़मर और बिलाल के मस्जिद में गाने और नाचने के बाद इस्लाम खतरे में आ चुका है। आज इन दोनों के पीछे पूरे देश के वो गाज़ी पड़ चुके हैं जो तब एक भी शब्द नहीं बोलते जब मस्जिद और मदरसों में हजारों बच्चों के साथ दुष्कर्म होता है|”

इसी प्रकरण पर हंगामा करते कट्टरपंथियों को जवाब देते हुए पाकिस्तानी यूट्यूबर और मानवाधिकार कार्यकर्ता आरिफ आजाकिया ने लिखा था, “सबा क़मर और बिलाल के मस्जिद में गाने और नाचने के बाद इस्लाम खतरे में आ चुका है। आज इन दोनों के पीछे पूरे देश के वो गाज़ी पड़ चुके हैं जो तब एक भी शब्द नहीं बोलते जब मस्जिद और मदरसों में हजारों बच्चों के साथ दुष्कर्म होता है|”

Leave a Reply