रायपुर| राजधानी रायपुर के साइंस कॉलेज में 28 अक्टूबर से 30 अक्टूबर तक आयोजित होने वाले राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में भागीदारी के लिए अभी तक 8 देशों की सैद्धांतिक सहमति मिल गई है। विदेशी कलाकारों द्वारा मुख्य समारोह में अपने-अपने देशों की लय, ताल और धुन पर आकर्षक एवं जीवंत प्रस्तुति प्रस्तुत की जाएगी। इसके अलावा भारत के लगभग 29 राज्यों से कलाकारों का दल भी राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में शामिल होगा।

संस्कृति विभाग द्वारा विभिन्न देशों से आने वाले कलाकारों एवं प्रतिभागियों के आवास, परिवहन एवं अन्य व्यवस्था के लिए वरिष्ठ अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई है, इनमें भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी श्री डी. राहुल वेंकट समस्त कलाकारों एवं प्रतिनिधियों के देखरेख एवं व्यवस्था के लिए उनको प्रभारी अधिकारी बनाया गया है।

अलग-अलग देशों के कलाकार होंगे शामिल

युगांडा, नाईजीरिया, उज्बेकिस्तान, स्वाजीलैंड, माले, श्रीलंका, फिलिस्तीन और सीरिया के कलाकारो व प्रतिभागी शिरकत करेंगे। इसके अलावा भारत के 29 राज्यों से कलाकारों का दल भी राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में शामिल होगा।

इसी प्रकार भारतीय प्रशासनिक सेवा की अधिकारी अभिजीत सिंह को माले, उज्बेकिस्तान और श्रीलंका के प्रतिभागियों से समन्वय के लिए प्रभारी अधिकारी बनाया गया है। भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी इफ्फत आरा को फिलिस्तीन और सीरिया के कलाकारों व प्रतिभागियों से समन्वय के लिए प्रभारी अधिकारी बनाया गया है। राज्य प्रशासनिक सेवा के अधिकारी मनीष मिश्रा और शशांक पाण्डेय को जूरी के साथ समन्वय के लिए प्रभारी अधिकारी नियुक्त किया गया है।

इन राज्यों से आदिवासी होंगे शामिल

महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, कर्नाटक, आंध्रप्रदेश, तेलंगाना, केरल, लक्षद्वीप, तमिलनाडु, राजस्थान, गुजरात, गोवा, दमन और दीव, दादर एवं नागर हवेली, बिहार, झारखंड, ओडिशा, पश्चिम बंगाल, उत्तरप्रदेश, उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, अरूणाचल प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, असम, मेघालय, मिजोरम, नागालैण्ड, सिक्किम और त्रिपुरा के कलाकारों के आने की सहमति मिल गई है।

Leave a Reply