पंजाब के नए मुख्यमंत्री बन सकते हैं सुखजिंदर सिंह रंधावा, कांग्रेस आलाकमान को भेजा गया नाम

NATIONAL POLITICAL

चंडीगढ़| पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह के मुख्यमंत्री पद से स्तीफा देने के बाद से लगातार कांग्रेस पार्टी में हलचल मची हुई है| सीएम पद की रेस में कई नाम सामने आए, कोन्ग्रेस्स ने वहीं आलाकमान ने विधयाकों की राय चिठ्ठी द्वारा मंगाया भी गया| वहीं अब, मिडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पंजाब के नए मुख्यमंत्री का नाम तय कर लिया गया है। सुखजिंदर सिंह रंधावा पंजाब के नए मुख्यमंत्री हो सकते हैं। पंजाब कांग्रेस ने रंधावा का नाम फाइनल किया है। थोड़ी देर में पंजाब के नए सीएम के नाम का ऐलान हो सकता है। पंजाब कांग्रेस ने रंधावा का नाम कांग्रेस आलाकमान को भेजा है। डिप्टी सीएम के लिए भारत भूषण का नाम आगे किया गया है। हालांकि, अभी कांग्रेस आलाकमान के पास नए सीएम का नाम भेजा गया है। पंजाब के नए सीएम का आज शाम तक फैसला हो सकता है। सीएम के नाम का अंतिम फैसला कांग्रेस हाईकमान करेगा।

पंजाब में अमरिंदर सिंह सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे सुखजिंदर सिंह रंधावा ने 19 सितंबर को कहा कि उनकी कभी किसी पद की लालसा नहीं रही है। उन्होंने यह टिप्पणी उस वक्त की है जब उनका नाम भी कांग्रेस विधायक दल के नेता के संभावित दावेदारों में लिया जा रहा है। यह पूछे जाने पर कि अगले मुख्यमंत्री के लिए उनके नाम को लेकर भी चर्चा चल रही, रंधावा ने कहा कि उन्होंने और उनके परिवार ने कभी किसी पद की लालसा नहीं है। पत्रकारों ने जब सवाल किया कि क्या वे पंजाब के अगले मुख्यमंत्री से बात कर रहे हैं, उन्होंने कहा, ‘‘आप एक कांग्रेस कार्यकर्ता से बात कर रहे हैं।’’

कैप्टन अमरिंदर के पद से स्तीफा देने पर रंधावा ने कहा की ‘‘एक मुख्यमंत्री तभी तक अपने पद पर रहता है जब तक उसकी पार्टी और राज्य की जनता उसके साथ खड़ी होती है।’’ अमरिंदर सिंह ने 18 सितंबर को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था और कहा था कि विधायकों की बार-बार बैठक बुलाए जाने से उन्होंने खुद को अपमानित महसूस किया, जिसके बाद उन्होंने यह कदम उठाया।

विधायक दल के नए नेता के चयन के बारे में रंधावा ने कहा, ‘‘इस बारे में हमने कांग्रेस अध्यक्ष को अधिकृत कर दिया है।’’ उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेतृत्व ने विधायकों के साथ ही पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ भी चर्चा की है। यह पूछे जाने पर कि विधायक दल का नया नेता चुनने में इतना समय क्यों लग रहा है, तो रंधावा ने कहा, ‘‘अगर आप एक गांव का सरपंच चुनते हैं तो उसमें भी कभी-कभी 20 दिन लग जाते हैं।’’ अमरिंदर सिंह के अपमानित महसूस करने संबंधी बयान पर उन्होंने कहा, ‘‘भाजपा ने पांच मुख्यमंत्री बदले हैं। कांग्रेस में भी कुछ मुख्यमंत्री बदले गए हैं। कांग्रेस में अमरिंदर साढ़े नौ साल तक मुख्यमंत्री रहे। मेरा मानना है कि उनको जितना सम्मान मिला, उतना किसी मुख्यमंत्री को नहीं मिला।’’

कांग्रेस की वरिष्ठ नेता अंबिका ने कहा – “मैंने पंजाब की मुख्यमंत्री बनने से इनकार किया, किसी सिख को संभालनी चाहिए यह जिम्मेदारी”

कांग्रेस की वरिष्ठ नेता अंबिका सोनी ने 19 सितंबर को कहा कि उन्होंने पंजाब की मुख्यमंत्री बनने से इनकार कर दिया है क्योंकि सिख बहुल इस राज्य का मुख्यमंत्री कोई सिख ही होना चाहिए। उन्होंने यहां संवाददाताओं से बातचीत में यह भी कहा कि कांग्रेस की पंजाब इकाई में कोई टकराव नहीं है और जल्द ही सबकुछ ठीक हो जाएगा। यह पूछे जाने पर क्या उन्हें मुख्यमंत्री पद का प्रस्ताव दिया गया है तो सोनिया गांधी की करीबी मानी जाने वाली अंबिका ने कहा, ‘‘मैंने इनकार कर दिया है। मेरा 50 साल से मानना है कि पंजाब का मुख्यमंत्री कोई सिख होना चाहिए क्योंकि यह देश में एकमात्र राज्य है जहां सिख बहुसंख्यक हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘पार्टी की प्रक्रिया चल रही है। प्रभारी हैं और एक-एक विधायक की राय लिखित में ली जा रही है। कोई टकराव नहीं है।’’ इस बीच, अंबिका सोनी ने पंजाब के घटनाक्रम की पृष्ठभूमि में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से भी मुलाकात की है।

Leave a Reply