कवर्धा में तनाव बरकार, गावं में असर कम, प्रशासन ने दी कर्फ्यू में 4 घंटे छूट, सुबह 10 से 2 तक खुलेंगे बाजार

CHATTISGARH RELIGIOUS

कवर्धा| छत्तीसगढ़ के कवर्धा जिले में 4 अक्टूबर को असमाजिक तत्वों द्वारा हिन्दू धर्म के झंडे को निकल फेंका था | जिसके बाद दो गुटों में हुई हिंसा का असर 6 दिन बाद असर अब पहले के मुताबिक कम होता नजर आ रहा है| हिंसा के बाद लगे कर्फ्यू का गांव में ज्यादा असर नहीं है| जिले के पंडरिया स्थित ग्रामीण इलाकों में कुछ लोगों ने बंद का विरोध भी किया| हालांकि शहरी इलाकों में तनाव अब भी बरकरार है| प्रशासन ने लोगों की सुविधा के लिए कर्फ्यू में चार घंटे की छूट दी है. आवश्यक सामग्रियों की खरीदी के लिए सुबह 10 से दोपहर 2 बजे तक बाजार खोलने की अनुमति दे दी गई है| प्रशासन ने 9 अक्टूबर तय समय में बाजार खोले जाने की अनुमति हैं|

कवर्धा हिंसा के दौरान उत्तर प्रदेश में मौजूद रहे मुख्यमंत्री भूपेश बघेल छत्तीसगढ़ लौटने के बाद एक्शन मोड में नजर आ रहे हैं| भूपेश ने मीडिया को दिए बयान में कहा कि “उपद्रव के पीछे जो कोई भी हो, उसे बख्शा नहीं जाए| ऐसे लोगों के नाम भी मीडिया के जरिए सबके सामने लेकर आएं, जिससे लोग जान सकें|” बता दें कि पुलिस ने स्थानीय बीजेपी सांसद संतोष पांडेय, पूर्व सांसद अभिषेक सिंह के खिलाफ भी विवाद मामले में केस दर्ज किया है| इनके अलावा करीब हिंसा के मामले में अब तक 70 लोगों पर एफआईआर दर्ज कर ली गई है|

मुख्यमंत्री की हाई लेवल मीटिंग

बता दें कि सीएम बघेल ने कवर्धा विवाद मामले में 8 अक्टूबर को हाईलेवल मीटिंग ली| इसमें कवर्धा कलेक्टर और एसपी के साथ ही प्रभारी मंत्री भी शामिल हुए| बैठक में सीएम ने दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए| भूपेश ने कहा कि ‘छत्तीसगढ़ शांति प्रिय प्रदेश है, जो कोई भी इस घटना का जिम्मेदार हो उसे उजागर करें|’ 8 अक्टूबर को ही कवर्धा में विभिन्न धर्म व समाज के लोगों द्वारा शांति मार्च निकाला| 9 अक्टूबर की सुबह 10 बजे से दोपहर 2 बजे तक कर्फ्यू में ढील देने की घोषणा जिला प्रशासन ने की है| इस दौरान बाजार और सभी दुकानें खुल सकेंगी| जबकि हॉकर,दूध विक्रेता, होम डिलीवरी सर्विसेस को सुबह 7 बजे से 10 बजे तक के लिए छूट दी गई है| इसके लिए जगह-जगह मुनादी कराई गई है|

Leave a Reply