असम में अहोम सेना के “जनरल लाचित बोड़फुकन” की जयंती को चिह्नित करने के लिए प्रत्येक वर्ष 24 नवंबर को लाचित दिवस प्रतिवर्ष मनाया जाता है। लाचित बोड़फुकन का जन्म 24 नवंबर 1622 को चराइदेव में हुआ था और वह सरायघाट की लड़ाई में अपनी सैन्य खुफिया जानकारी के लिए जाने जाते थे ।

1999 से हर वर्ष, राष्ट्रीय रक्षा अकादमी से सर्वश्रेष्ठ कैडेट पासिंग आउट को ‘लाचित बोड़फुकन गोल्ड मेडल से सम्मानित किया जाता है। ‘महाबीर लाचित पुरस्कार असम में ताई अहोम युवा परिषद द्वारा उल्लेखनीय व्यक्तियों को दिया जाता है। इस पुरस्कार के तहत 50000 रुपये का नकद पुरस्कार और तलवार प्रदान की जाती है।

इतिहास

सरायघाट की लड़ाई वर्ष 1671 में ब्रह्मपुत्र नदी के तट पर राम सिंह के नेतृत्व वाली मुगल सेना और लाचित बोड़फुकन के नेतृत्व वाली अहोम सेना के बीच लड़ी गई थी। चाओ लाचित अहोम सेना के बोड़फुकन (सेना जनरल) थे। आमेर शासक मिर्जा राजा जय सिंह के बड़े पुत्र राम सिंह को मुगल सम्राट औरंगजेब ने अहोम साम्राज्य पर आक्रमण करने के लिए नियुक्त किया था। मुगल सेना अहोम सेना से बड़ी और शक्तिशाली थी, लेकिन लाचित ने इलाके, नेतृत्व कौशल और गुरिल्ला युद्ध के अपने शक्तिशाली उपयोग के साथ सरायघाट को वर्तमान में गुवाहाटी में मुगल आक्रमण से बचाया। अप्रैल 1672 में जोरहाट में उनकी प्राकृतिक मृत्यु हो गई, और उनके अवशेष जोरहाट के पास लाचित मैदान में मौजूद हैं।

लालचित की लड़ाई

लाचित और उनकी सेना द्वारा पराजित होने के बाद, मुगल सेना ब्रह्मपुत्र नदी के रास्ते ढाका से असम की ओर चलीं और गुवाहाटी की ओर बढ़ने लगीं. रामसिंह के नेतृत्व वाली मुग़ल सेना में 30,000 पैदल सैनिक, 15,000 तीरंदाज़, 18,000 तुर्की घुड़सवार, 5,000 बंदूकची और 1,000 से अधिक तोपों के अलावा नौकाओं का विशाल बेड़ा था।

लड़ाई के पहले चरण में मुग़ल सेनापति राम सिंह असमिया सेना के विरुद्ध कोई भी सफलता पाने में विफल रहा. रामसिंह के एक पत्र के साथ अहोम शिविर की ओर एक तीर छोड़ा गया, जिसमें लिखा था कि लाचित को एक लाख रूपये दिये गये थे और इसलिए उसे गुवाहाटी छोड़कर चला जाना चाहिए. यह पत्र अंततः अहोम राजा चक्रध्वज सिंह के पास पहुंचा। यद्यपि राजा को लाचित की निष्ठा और देशभक्ति पर संदेह होने लगा था, लेकिन उनके प्रधानमंत्री अतन बुड़गोहेन ने राजा को समझाया कि यह लाचित के विरुद्ध एक चाल है।

सराईघाट की लड़ाई के अंतिम चरण में, जब मुगलों ने सराईघाट में नदी से आक्रमण किया, तो असमिया सैनिक लड़ने की इच्छा खोने लगे. कुछ सैनिक पीछे हट गए। यद्यपि लाचित गंभीर रूप से बीमार थे, फिर भी वे एक नाव में सवार हुए और सात नावों के साथ मुग़ल बेड़े की ओर बढे. उन्होंने सैनिकों से कहा, “यदि आप भागना चाहते हैं, तो भाग जाएं. महाराज ने मुझे एक कार्य सौंपा है और मैं इसे अच्छी तरह पूरा करूंगा. मुग़लों को मुझे बंदी बनाकर ले जाने दीजिए. आप महाराज को सूचित कीजिएगा कि उनके सेनाध्यक्ष ने उनके आदेश का पालन करते हुए अच्छी तरह युद्ध किया। उनके सैनिक लामबंद हो गए और ब्रह्मपुत्र नदी में एक भीषण युद्ध हुआ।

लाचित बोड़फुकन विजयी हुए. मुग़ल सेनाएं गुवाहाटी से पीछे हट गईं. मुग़ल सेनापति ने अहोम सैनिकों और अहोम सेनापति लाचित बोड़फुकन के हाथों अपनी पराजय स्वीकार करते हुए लिखा, “महाराज की जय हो! सलाहकारों की जय हो! सेनानायकों की जय हो!देश की जय हो! केवल एक ही व्यक्ति सभी शक्तियों का नेतृत्व करता है! यहां तक ​​कि मैं राम सिंह, व्यक्तिगत रूप से युद्ध-स्थल पर उपस्थित होते हुए भी, कोई कमी या कोई अवसर नहीं ढूंढ सका!

राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के सर्वश्रेष्ठ कैडेट को लाचित मैडल से सम्मानित किया जाता है, जिसका नाम लाचित बोड़फुकन के नाम पर रखा गया है।

Leave a Reply